What Is a VPN in Hindi

नमस्ते दोस्तों आज की पोस्ट बहुत ही मजेदार होने वाली है क्योंकि यह टेक्स के रिलेटेड है और आपने कहीं बाहर कहीं जगह पर नाम सुना होगा VPN लेकिन आपको पता नहीं होगा कि यह चीज क्या है और आप इससे क्या कर सकते हैं. अगर इस के पूरे नाम की बात करें तो इसे वर्चुअल प्राइवेट सर्वर कहते हैं जो शायद आपको पता नहीं होगा लेकिन आज इस पोस्ट में आपको ऐसी ही VPN के बारे में कुछ मजेदार चीज जानने को मिलेगी जो आपने पहले कहीं नहीं सुनी होगी.

All Information About VPN Services in Hindi

इससे बहुत सालों से सिक्योरिटी को बढ़ाने के लिए यूजर को दी जाती थी लेकिन 2020 से पहले इसके बारे में कोई ज्यादा कुछ जानता नहीं था और शायद इसका उपयोग भी बहुत कम लोग कर रहे हो. शायद आप डेवलपर है तो आपको इसके बारे में ज्यादा पता होगा बाकी सामान्य यूजर को इसके बारे में ज्यादा कुछ माहिती नहीं होती क्योंकि यह पहले कुछ काम में नहीं आता था.

आपको भी पता ही है कि जैसे ही टेक्नोलॉजी बढ़ रही है सभी काम ऑनलाइन होने लगे हैं और आज तो आप अपने एंड्राइड या आईफोन से क्या कुछ नहीं कर सकती क्योंकि आपको एक कंप्यूटर के जैसे ही काम करके देता है. इससे आपका कहीं सारा काम और भी आसान हो जाता है यह तो आपको पता ही होगा. लेकिन जैसे-जैसे टेक्नोलॉजी बढ़ रही है कहीं लोग ऐसे होते हैं जो इसका गलत उपयोग करते हैं और आपका प्राइवेट डाटा या इंपॉर्टेंट इंफॉर्मेशन चोरी कर लेते हैं.

2018 या उससे पहले का एक समय था जब लोग फोन का उपयोग तो कर रहे थे लेकिन इंटरनेट का उपयोग इतना ज्यादा नहीं कर रहे थे जितना कि लोग 2020 में कर रहे हैं. और आप अपनी सभी बैंक की डिटेल भी शायद अपने मोबाइल में जरूर रखते होगे और इसमें आपके सभी क्रेडिट और डेबिट कार्ड की डिटेल भी रखी है जिससे कि आप ऑनलाइन पेमेंट कर सकें.

अब दिक्कत आती है कि अगर आप किसी कैफे में या मॉल में जाते हैं, तो वहां आपको फ्री में वाईफाई उपयोग करने के लिए मिल जाएगा जो नेटवर्क इतना सिक्योर नहीं होता और एक ही नेटवर्क में आपको पता ही होगा कि बहुत सारे लोग उसका उपयोग कर रहे होते हैं तब ज्यादा चांसेस रहते हैं कि आपका डाटा आपकी इंफॉर्मेशन चोरी हो जाए  या हैक जाए. लेकिन किसी भी आदमी को फ्री में इंटरनेट उपयोग करने के लिए मिल जाता है तो वह बिना किसी संकोच के उसका फायदा लेता है और कोई भी फाइल डाउनलोड भी आसानी से कर लेता है.

 अब दिक्कत यही आएगी कि अगर आप जो फ्री में वाईफाई का उपयोग कर रहे हैं उसी नेटवर्क का कोई हैकर भी उपयोग कर रहा है तो वह आपके डाटा आसानी से चुरा सकता है इससे शायद आपको बहुत बड़ा नुकसान भी हो सकता है. अब इस प्रश्न का सलूशन भी आपको इसी पोस्ट में मिल जाएगा. अब आप किसी भी आने की वर्चुअल प्राइवेट सर्वर का उपयोग करते हैं तो किसी भी है कर के लिए आसान काम नहीं है कि वह आपके डाटा है कर ले क्योंकि ज्ञान से कनेक्ट होते हैं तो वह आपका ओरिजिनल आईपी ऐड्रेस ढूंढ नहीं पाता.

आपका कोई भी डिवाइस जब नेटवर्क के साथ जुड़ा हुआ है और डाटा ट्रांसफर होता है तो पहले वह भी पीएम के सर्वर के थ्रू ही आप तक पहुंचता है आपको डायरेक्ट एक्सप्रेस उसका नहीं मिलता. अब जब कोई हैकर को आपके डाटा हैक करने है तो उसे पहले बीपीएल सर्विस का फायरवॉल ब्रेक करना होगा उसके बाद वह आपके ओरिजिनल आईपी एड्रेस या डीएनएस को ट्रैक कर सकता है.

आपका पर्सनल डिवाइस या वाईफाई है तो उसमें कोई पावरफुल सिक्योरिटी नहीं लगी होती है, लेकिन जो आपका वीपीएन सर्विस प्रोवाइडर है उसका फायर ऑल इतना पावरफुल होता है कि कोई भी आदमी उसे आसानी से हक नहीं कर सकता और आपको पब्लिक नेटवर्क में भी अच्छी सिक्योरिटी मिल जाएंगी जिससे आपके डाटा हैक होने का चांसेस बहुत कम हो जाता है और यही वजह है कि आज 2020 में कहीं सारे लोग भी VPN का उपयोग करते हैं, और इसके लिए पैसे भी खर्च करते हैं.

चलिए यह तो एक बात हुई कि आप अपनी सिक्योरिटी को इनक्रीस करना चाहते हैं तो आप अपना खुद का फायर बॉल तो नहीं लगा सकते  लेकिन आप बेशक वीपीएन के जरिए अपनी सिक्योरिटी को जरूर इनक्रीस कर सकते हैं यह इसका मुख्य और पहला काम है, लेकिन इस सर्विस के आपको दूसरे भी फायदे देखने को मिलेंगे जो मैंने नीचे बताया है.

अगर आप कॉलेज में पढ़ रहे हैं या किसी कंपनी में काम कर रहे हैं तो वहां आपको फ्री में वाईफाई यानी कि इंटरनेट का उपयोग करने तो मिल जाएगा लेकिन आपको पता ही है कि वहां आपको कहीं सारी वेबसाइट ब्लॉक की हुई दिखेंगी जिसका उपयोग आप नहीं कर सकते. अब इसका मतलब यह है कि यह वेबसाइट वालों ने आपको ब्लॉक नहीं किया लेकिन आपका जो भी नेटवर्क है उसमें इंजीनियर ने वह वेबसाइट को ब्लॉक किया हुआ है कि आप इस आईपी ऐड्रेस के जरिए उस वेबसाइट को नहीं खोल सकते.

दूसरी बात करें तो भारत सरकार ने भी कहीं सारी अवैध वेबसाइटों को ब्लॉक किया हुआ है और ऐसी भी वेबसाइट को ब्लॉक किया हुआ है जो गवर्नमेंट पॉलिसी को फॉलो नहीं करते. अब जब आपको यह वेबसाइट इंडिया में रखकर खोलनी है तो आप कैसे खोलेंगे. आप वीपीएन के जरिए यह वेबसाइट को बहुत ही आसानी से एक्सेस कर सकते हैं. अब ऐसा नहीं है कि इसके लिए आपको पैसे चुकाने ही पड़े आपको प्ले स्टोर या इंटरनेट में कहीं सारे वीपीएन मिल जाएंगे जो आपको सभी सुविधाएं फ्री में प्रोवाइड करवाते हैं, हालांकि यह वर्ल्ड क्लास सर्विस आपको प्रोवाइड नहीं कर पाएगा क्योंकि आपको भी पता है कि आज फ्री में कोई भी चीज नहीं मिलती लेकिन आपका काम बन जाएगा.

अब सबसे पहले आपको भी पीएम को ओपन करना है जिसको आप अपना लैपटॉप या एंड्रॉयड फोन में भी ऐप के जरिए ओपन कर सकते हैं अगर आपको नहीं पता कि कौन सी एप्लीकेशन आपको डाउनलोड करनी चाहिए तो आपको हमारी वेबसाइट में एक पोस्ट मिल जाएंगी जिसमें आप को सबसे अच्छे वीपीएन के बारे में बताया हुआ है.

अब जब आपने एप्लीकेशन ओपन कर दी तब आपको यूएसए या किसी और देश के सवर के साथ अपने नेटवर्क को कनेक्ट करना है, अब इससे होगा क्या कि जो भी आईपी एड्रेस वेबसाइट द्वारा आपके नेटवर्क द्वारा ब्लॉक किया हुआ है उसके बजाय आप वीपीएन के सवर के तू इसको एक्सेस करते हैं तो उसको कुछ और ही आई थी देखने को मिलेगा जिससे कि आप आसानी से कोई भी वेबसाइट या एप्लीकेशन को एक्सेस कर सकते हैं जिसको आपके सरवन ने ब्लॉक किया हुआ है.

Summary

मुझे आशा है कि अब आप को vpn से जुड़ी सामान्य बातों का पता चल गया होगा कि यह क्या है और यह कैसे काम करता है और यह बात होखे है कि आपको क्या फायदा पहुंचा सकता है. अब दूसरी बात यह है कि आपको यह फ्री में मिलेगा या इसके लिए आपको पैसे चुकाने पड़ सकते. कहीं सारी vpn सर्विस है जो आपको फ्री में भी मिल जाएगी, लेकिन अगर आप इसका रेगुलर उपयोग करते हैं और आप को सबसे बेस्ट सर्विस चाहिए तो आपको इसके लिए पैसे चुकाने पड़ सकते हैं जिसकी कीमत 1 महीने के लिए 5 से $10 तक है

1 thought on “What Is a VPN in Hindi”

Leave a Comment